Author: Debashish Chakrabarty

सोपान अंक‍ 4 – गलती, बिल्लियाँ, इन्नोवेशन

पॉडभारती सोपान के प्रथम सीज़न के चौथे अंक मेंः उद्ममी अंकुर वरिकु आगाह कर रहे हैं एक गलती से, जो लोग अक्सर अपने करियर में कर बैठते हैं। चर्चा इंवेन्शन और इन्नोवेशन की, और आविष्कारक आलोक गोविल से पेटेंट विषय पर साक्षात्कार। और दुनिया रंग रंगीली में, एक रोचक किस्सा बोर्नियो में बिल्लियों के पेराशूट ड्रॉप का।

सोपान अंक‍ 3 – लोकनीति, बदलाव, सनक

पॉडभारती सोपान के प्रथम सीज़न के तृतीय अंक मेंः नौकरी बदलने का सही समय क्या है. ये पता लगाने की अपनी पद्धति साझा कर रहे हैं अनुराग काले, तक्षशिला संस्थान के प्रणय कोटस्थने बता रहे हैं Public Policy यानि लोकनीति के क्षेत्र में शिक्षा और करियर विकल्पों के बारे में, और दुनिया रंग रंगीली में, चर्चा कुछ धुनी उद्यमियों और वैज्ञानिकों की दिलचस्प सनक की।