हमारी नवीनतम प्रस्तुति

सोपानः करियर पॉडकास्ट

हमारे पॉडकास्ट कार्यक्रम

पॉडभारती आपका अपना मंच है भारतीय भाषाओं में, भारतीय विषयों पर पॉडकास्ट सुनने का। प्रस्तुत है झलक हमारे विगत, वर्तमान और आगामी पॉडकास्ट कार्यक्रमों की।

जल्द आ रहा है आपके नज़दीकी इयरफ़ोन्स पर

क्या कहते हैं हमारे श्रोता

Amit Ranjan

“The audio quality is great. Moreover, the tone and style of the podcast is highly reminiscent of 1970-80s style radio, somewhat like Amin Sayani’s famous shows.”

Amit Ranjan

Amit Agarwal

“Podbharati is one show you just cannot afford to miss – excellent production quality, content delivery and choice of topics. Excellent production quality, content delivery and choice of topics.”

Amit Agarwal

Pranav Dharma

“…(with) a distinctive style to their podcasts.. the podcast kind of takes you back in time, making you reminiscent of All India Radio’s Vividh Bharati shows. They cover a variety of current issues that affect the Indian society. Pretty insightful with a touch of serious journalism to it. Well worth your time.”

Pranav Dharma

स्पॉटलाईट में

पॉडभारती इंटरनेट पर तब अवतरित हुआ था जब किसी ने भारतीय भाषाओं में पॉडकास्ट सुने न थे। 2007 में अंग्रेज़ी पॉडकास्ट के क्षेत्र में चुनिंदा लोगों में शामिल थे, कमला भट्ट, इंडीकास्ट, पॉडटेक, और पॉडमस्ती। ऐसे में हिन्दी में पॉडकास्ट जारी होने के समाचार को उस समय प्रेस व ब्लॉग जगत ने हाथों हाथ लिया। अक्तुबर 2008 में पॉडभारती का नामांकन टाटा नेन हॉटेस्ट स्टार्टअप अवार्ड के लिये हुआ, और हमें एक्सपर्ट कमेंट मिले, “Interesting concept but a niche market.” और “It seems that the idea is ahead of its times for the market it is targeting.” शायद यह बात सही रही हो।

और जानें

Recent Posts

सोपानः अंक‍ 3

पॉडभारती सोपान के प्रथम सीज़न के द्वितीय अंक मेंः नौकरी बदलने का सही समय क्या है. ये पता लगाने की अपनी पद्धति साझा कर रहे हैं अनुराग काले, तक्षशिला संस्थान के प्रणय कोटस्थने बता रहे हैं कि Public Policy यानि लोकनीति क्या है और इस क्षेत्र में शिक्षा और करियर विकल्पों के बारे में, और दुनिया रंग रंगीली में, चर्चा कुछ धुनी उद्यमियों और वैज्ञानिकों की दिलचस्प सनक की।

सोपानः अंक‍ 2

पॉडभारती सोपान के प्रथम सीज़न के द्वितीय अंक मेंः ऐसा कौन सा नशा है जिससे जिंदगी खत्म हो जाती है, बता रहे हैं उद्यमी अंकुर वरिकु, प्रॉडक्ट मैनेजमेंट में करियर के विषय पर द प्रैक्टिकल पीएम की संस्थापक जया झा से साक्षात्कार और दुनिया रंग रंगीली में डॉनल्ड डक और पेटेंट से संबंधित एक मज़ेदार वाकया।